Thursday, April 18, 2013

CBSE Class 6/7/8/9 - Hindi - अनौपचारिक पत्र

अनौपचारिक पत्र

१) मित्र को जन्मदिन के उपलक्ष्य में बधाई पत्र लिखो |

११२,शारदा निकेतन
दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय मित्र -------,

सप्रेम नमस्कार |
कल ही मुझे तुम्हारे जन्मदिन का निमंत्रण पत्र मिला | मुझे यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुम अपना जन्म-दिवस बड़ी धूमधाम से मना रही हो | इस शुभ अवसर पर सुबह अनाथालय जाकर बच्चों को खाना और कपड़े बाँटने का विचार अति उत्तम है | शाम को घर पर रखी पार्टी और उसमें आयोजित जादूगर का खेल अवश्य ही सबको पसंद आएगा | मेरी ओर से तुम्हें जन्मदिन की बहुत- बहुत बधाई | मैं तुम्हारे कार्यक्रम में अवश्य सम्मिलित होऊँगा/ होऊँगी |

पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

क. ख. ग.


२) मित्र को परीक्षा में सफलता पर बधाई देते हुए पत्र लिखो |

१२,त्रिलोक कुञ्ज,
दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय मित्र -------,

सप्रेम नमस्कार |
आज ही तुम्हारा पत्र मिला | यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुमने परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया है | तुम्हारी यह शानदार सफलता  और ९४% अंक तुम्हारी लगन, समय के सदुपयोग एवं कड़ी मेहनत का परिणाम हैं | यदि तुम इसी प्रकार परिश्रम और समय के महत्त्व को समझकर जीवन में अग्रसर होगे तो हर क्षेत्र में सफलता अवश्य प्राप्त करोगे और अपने माता-पिता की आशाओं को पूरा करोगे | हम सबकी ओर से तुम्हें बहुत- बहुत बधाई |

पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

क. ख. ग.

३) व्यायाम का महत्त्व बताते हुए छोटे भाई को पत्र लिखो |
१२,त्रिलोक कुञ्ज, दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय अर्जुन ,
प्यार |

मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और आशा करता हूँ/करती हूँ कि घर पर भी सब ठीक-ठाक होंगे | कल ही पिताजी का पत्र  मिला | पढ़कर ज्ञात हुआ कि तुम बीमारी के कारण कई दिनों से  विद्यालय नहीं जा रहे हो | प्रिय अनुज , यों बार-बार बीमार पड़ना ठीक नहीं | तुम्हें अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए | एक स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है | स्वस्थ रहने का एक अति उत्तम साधन है -व्यायाम | व्यायाम करने से हमारी माँस-पेशियाँ मजबूत होती हैं और रक्त का प्रवाह भी बढ़ जाता है | इससे  शरीर हृष्ट-पुष्ट बनता है और हम जल्दी बीमार नहीं होते | हमारे कार्य करने की क्षमता भी बढ़ जाती है | आशा करता हूँ /करती हूँ  कि तुम मेरी सलाह पर ध्यान दोगे और आज से ही नित्य व्यायाम करने की आदत बनाओगे |

पूज्य माता जी और पिता जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा अग्रज /तुम्हारी अग्रजा,

क. ख. ग.                   

1 comment: