Thursday, April 18, 2013

CBSE Class 6/7/8/9 - Hindi - अनौपचारिक पत्र

अनौपचारिक पत्र

१) मित्र को जन्मदिन के उपलक्ष्य में बधाई पत्र लिखो |

११२,शारदा निकेतन
दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय मित्र -------,

सप्रेम नमस्कार |
कल ही मुझे तुम्हारे जन्मदिन का निमंत्रण पत्र मिला | मुझे यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुम अपना जन्म-दिवस बड़ी धूमधाम से मना रही हो | इस शुभ अवसर पर सुबह अनाथालय जाकर बच्चों को खाना और कपड़े बाँटने का विचार अति उत्तम है | शाम को घर पर रखी पार्टी और उसमें आयोजित जादूगर का खेल अवश्य ही सबको पसंद आएगा | मेरी ओर से तुम्हें जन्मदिन की बहुत- बहुत बधाई | मैं तुम्हारे कार्यक्रम में अवश्य सम्मिलित होऊँगा/ होऊँगी |

पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

क. ख. ग.


२) मित्र को परीक्षा में सफलता पर बधाई देते हुए पत्र लिखो |

१२,त्रिलोक कुञ्ज,
दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय मित्र -------,

सप्रेम नमस्कार |
आज ही तुम्हारा पत्र मिला | यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुमने परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया है | तुम्हारी यह शानदार सफलता  और ९४% अंक तुम्हारी लगन, समय के सदुपयोग एवं कड़ी मेहनत का परिणाम हैं | यदि तुम इसी प्रकार परिश्रम और समय के महत्त्व को समझकर जीवन में अग्रसर होगे तो हर क्षेत्र में सफलता अवश्य प्राप्त करोगे और अपने माता-पिता की आशाओं को पूरा करोगे | हम सबकी ओर से तुम्हें बहुत- बहुत बधाई |

पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

क. ख. ग.

३) व्यायाम का महत्त्व बताते हुए छोटे भाई को पत्र लिखो |
१२,त्रिलोक कुञ्ज, दिल्ली |
दिनांक ----------

प्रिय अर्जुन ,
प्यार |

मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और आशा करता हूँ/करती हूँ कि घर पर भी सब ठीक-ठाक होंगे | कल ही पिताजी का पत्र  मिला | पढ़कर ज्ञात हुआ कि तुम बीमारी के कारण कई दिनों से  विद्यालय नहीं जा रहे हो | प्रिय अनुज , यों बार-बार बीमार पड़ना ठीक नहीं | तुम्हें अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए | एक स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है | स्वस्थ रहने का एक अति उत्तम साधन है -व्यायाम | व्यायाम करने से हमारी माँस-पेशियाँ मजबूत होती हैं और रक्त का प्रवाह भी बढ़ जाता है | इससे  शरीर हृष्ट-पुष्ट बनता है और हम जल्दी बीमार नहीं होते | हमारे कार्य करने की क्षमता भी बढ़ जाती है | आशा करता हूँ /करती हूँ  कि तुम मेरी सलाह पर ध्यान दोगे और आज से ही नित्य व्यायाम करने की आदत बनाओगे |

पूज्य माता जी और पिता जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

तुम्हारा अग्रज /तुम्हारी अग्रजा,

क. ख. ग.                   

21 comments:

  1. Replies
    1. अनौपचारिक पत्र
      अनौपचारिक पत्र


      १) मित्र को जन्मदिन के उपलक्ष्य में बधाई पत्र लिखो |

      ११२,शारदा निकेतन
      दिल्ली |
      दिनांक ----------

      प्रिय मित्र -------,

      सप्रेम नमस्कार |
      कल ही मुझे तुम्हारे जन्मदिन का निमंत्रण पत्र मिला | मुझे यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुम अपना जन्म-दिवस बड़ी धूमधाम से मना रही हो | इस शुभ अवसर पर सुबह अनाथालय जाकर बच्चों को खाना और कपड़े बाँटने का विचार अति उत्तम है | शाम को घर पर रखी पार्टी और उसमें आयोजित जादूगर का खेल अवश्य ही सबको पसंद आएगा | मेरी ओर से तुम्हें जन्मदिन की बहुत- बहुत बधाई | मैं तुम्हारे कार्यक्रम में अवश्य सम्मिलित होऊँगा/ होऊँगी |

      पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

      तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

      क. ख. ग.


      २) मित्र को परीक्षा में सफलता पर बधाई देते हुए पत्र लिखो |

      १२,त्रिलोक कुञ्ज,
      दिल्ली |
      दिनांक ----------

      प्रिय मित्र -------,

      सप्रेम नमस्कार |
      आज ही तुम्हारा पत्र मिला | यह जानकार अत्यंत प्रसन्नता हुई कि गत वर्ष की भाँति इस वर्ष भी तुमने परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया है | तुम्हारी यह शानदार सफलता और ९४% अंक तुम्हारी लगन, समय के सदुपयोग एवं कड़ी मेहनत का परिणाम हैं | यदि तुम इसी प्रकार परिश्रम और समय के महत्त्व को समझकर जीवन में अग्रसर होगे तो हर क्षेत्र में सफलता अवश्य प्राप्त करोगे और अपने माता-पिता की आशाओं को पूरा करोगे | हम सबकी ओर से तुम्हें बहुत- बहुत बधाई |

      पूज्य चाचा जी और चाची जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

      तुम्हारा मित्र/तुम्हारी सखी ,

      क. ख. ग.

      ३) व्यायाम का महत्त्व बताते हुए छोटे भाई को पत्र लिखो |
      १२,त्रिलोक कुञ्ज, दिल्ली |
      दिनांक ----------

      प्रिय अर्जुन ,
      प्यार |

      मैं यहाँ कुशलपूर्वक हूँ और आशा करता हूँ/करती हूँ कि घर पर भी सब ठीक-ठाक होंगे | कल ही पिताजी का पत्र मिला | पढ़कर ज्ञात हुआ कि तुम बीमारी के कारण कई दिनों से विद्यालय नहीं जा रहे हो | प्रिय अनुज , यों बार-बार बीमार पड़ना ठीक नहीं | तुम्हें अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए | एक स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है | स्वस्थ रहने का एक अति उत्तम साधन है -व्यायाम | व्यायाम करने से हमारी माँस-पेशियाँ मजबूत होती हैं और रक्त का प्रवाह भी बढ़ जाता है | इससे शरीर हृष्ट-पुष्ट बनता है और हम जल्दी बीमार नहीं होते | हमारे कार्य करने की क्षमता भी बढ़ जाती है | आशा करता हूँ /करती हूँ कि तुम मेरी सलाह पर ध्यान दोगे और आज से ही नित्य व्यायाम करने की आदत बनाओगे |

      पूज्य माता जी और पिता जी को मेरा प्रणाम कहना और सोनू को प्यार |

      तुम्हारा अग्रज /तुम्हारी अग्रजा,

      क. ख. ग.

      Delete
    2. select anaupcharik patr and copy in microsoft word it will come like this

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. it is very good it solves my problem my problem is my holiday homework i need 2 letters all site are giving me 1 letter and there are very long these letters are small these are good

    ReplyDelete